Menu Close

Nati dance of Himachal Pradesh

Nati Dance Aromatic Folk Dance of Himachal Pradesh

Nati is a famous dance form of Himachal Pradesh. This dance is closely associated with the provinces of Himachal Pradesh and Uttrakhand. Nati dance is historically practiced within the districts of Kullu, Shimla, Sirmaur, Chamba, Kinnaur, Uttarkashi, Dehradun (Jaunsar-Bawar), and Tehri Garhwal.

It reflects the local culture and is performed mainly during the celebration of major festivals and exhibitions. The dance depicts Raas Lila and tells the story of Krishna and Gopis.

You will see dancers performing in other stories but they are all associated with Hindu gods and goddesses. During the festival, a variety of traditional dances and traditional songs can be witnessed by travelers. Nati is made for weddings and other fun events.

The dance has an intricate sequence and is associated primarily with the New Year’s Celebration. Nati dance is also performed in other parts of India such as Uttrakhand and Chandigarh. Nati dance has created a place in the Guinness Book of World Records for a large crowd that enjoys traditional dance. Even in modern times, Himachal has not forgotten the culture and its rich roots.

Nati Dance Performance

There is no limit to male or female dancers, both can participate in Nati dance. In ancient times, both women and men played in different teams. The group of dancers is led by a large male dancer with a fly whisk.

At first, all the dancers held hands and formed a circle. It can be considered a slow dance but among the styles, they choose the beat and dance according to the beats.

At the end of the Nati, Yagna was performed by dancers in honor of gods and goddesses.

Variety of  Nati Dance:

Nati is popular locally and globally. After a while, it changes slightly which is why there are more than one variety of Nati dance. There is-

1.Sirmauri Nati – Sirmour Nati
2. Kinnauri Nati
3. Kulluvi Nati
4.Shimla NatiKulluvi Nati
5. Lahauli Nati

Dance Costumes

The dancers are dressed in rich and colorful costumes that enhance the movement of the game even more. Both Himachal Pradesh men’s and women’s clothing are beautiful so think about the outfits they find specifically for dancing. Yes, they are.

Men wear churidar fur coats and women wear long coats similar to men’s. On the head, the man wears a Himachali topi or hat with embroidered flowers.

while women cover their heads with scarves. Women wear heavy embellishments such as Chanki and Tunki while performing their duties. Their lavish costumes make the stage glorious and a delight for onlookers.

Music and instruments

Nagara, shenai, karnal, flute, nursing, and dhol are the most instruments wont to play a song throughout Nati singing. The artists are called Tunis in the local language.

Songs sung during the dance have stories. They tell us about ancient myths. These types of dance and traditional songs are the reason why Himachal has not forgotten many good things about its history.

Nati Dance of Himachal Pradesh in hindi

हिमाचल प्रदेश का नाटी नृत्य

नाटी हिमाचल प्रदेश का एक बहुत लोकप्रिय नृत्य रूप है। नाटी नृत्य मुख्य रूप से हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों से जुड़ा हुआ है। नाटी नृत्य कुल्लू, शिमला, सिरमौर, चंबा, किन्नौर, उत्तरकाशी, देहरादून और टिहरी गढ़वाल जिलों में पारंपरिक रूप से किया जाता है।

यह गंतव्य के पारंपरिक क्षेत्र को सामने लाता है और मुख्य रूप से प्रमुख त्योहारों और मेलों के उत्सव के दौरान किया जाता है। नृत्य रास लीला को दर्शाता है और कृष्ण और गोपियों की कहानी बताता है।

आपने नर्तकियों को अन्य कहानियों में भी प्रदर्शन करते देखा होगा लेकिन वे सभी हिंदू देवी-देवताओं से जुड़े हुए हैं। त्योहारों के मौसम में यात्रियों द्वारा विभिन्न प्रकार के लोक नृत्यों और लोक गीतों को देखा जा सकता है। शादियों और अन्य खुशी के अवसरों पर भी नाटी की जाती है।

नृत्य का एक सार अनुक्रम होता है और यह मुख्य रूप से नए साल के उत्सव से जुड़ा होता है। नाटी नृत्य भारत के कई अन्य हिस्सों जैसे उत्तराखंड और चंडीगढ़ में भी किया जाता है। नाटी नृत्य ने लोक नृत्य प्रदर्शन करने वाली सबसे बड़ी भीड़ के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना स्थान बनाया है। आधुनिकीकरण के बाद भी, हिमाचल अपनी समृद्ध संस्कृति और जड़ों के बारे में नहीं भूला है।

नाटी नृत्य प्रदर्शन

नर या मादा नर्तकियों पर कोई प्रतिबंध नहीं है, दोनों नाटी नृत्य में भाग ले सकते हैं। पुराने जमाने में महिलाएं और पुरुष अलग-अलग ग्रुप में परफॉर्म करते थे। नर्तकियों के समूह का नेतृत्व कुछ मुख्य पुरुष नर्तक करते हैं जो एक फ्लाई व्हिस्क लेकर चलते हैं।

प्रारंभ में, सभी नर्तक हाथ पकड़कर एक घेरा बनाते हैं। इसे धीमा नृत्य माना जा सकता है लेकिन शैलियों के बीच में वे ताल के अनुसार नृत्य करते हैं और नृत्य करते हैं।

नाटी के अंत में, नर्तकियों द्वारा देवी-देवताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए एक यज्ञ किया जाता है।

नृत्य की विविधताएं:

नाटी स्थानीय और दुनिया भर में प्रसिद्ध है। कुछ दूरी के बाद इसे थोड़ा बदल दिया जाता है, यही कारण है कि नाटी नृत्य के एक से अधिक रूपांतर हैं। वहाँ है-

1. सिरमौरी नाटी – सिरमौर नाटी
2.किन्नौरी नाटी
3.कुल्लुवी नाटी
4.शिमला नाटीकुल्लुवी नाटी
5.लाहौली नाटी

नृत्य पोशाक

नर्तकियों को समृद्ध और रंगीन वेशभूषा में सुंदर ढंग से तैयार किया जाता है जो प्रदर्शन की जीवंतता को और भी अधिक बढ़ा देता है। हिमाचल प्रदेश के पुरुष और महिला दोनों के कपड़े सुंदर हैं इसलिए उन परिधानों के बारे में सोचें जो उन्हें विशेष रूप से नृत्य के लिए बनाए जाते हैं। हाँ, वे मंत्रमुग्ध कर रहे हैं।

पुरुष चूड़ीदार के साथ ऊनी वस्त्र पहनते हैं और महिलाएं नर के समान लंबे वस्त्र पहनती हैं। सिर पर, नर हिमाचली टोपी या टोपी पहनता है जिस पर फूल लगे होते हैं।

जबकि महिलाएं अपने सिर को स्कार्फ से ढकती हैं। महिलाएं अपनी प्रस्तुति देते समय चंकी और टुंकी जैसे भारी आभूषण पहनती हैं। उनके ग्लैमरस आउटफिट मंच को शानदार बनाते हैं और देखने वालों के लिए एक ट्रीट हैं।

संगीत और उपकरण

नाटी प्रदर्शन के दौरान गाने को बजाने के लिए नागर, शेनाई, करनाल, बांसुरी, नर्सिंग और ढोल मुख्य वाद्ययंत्र हैं। संगीतकारों को स्थानीय भाषा में ट्यूनिस कहा जाता है।

नृत्य के दौरान गाए गए गीतों में कहानियां होती हैं। वे हमें पुराने लोककथाओं के बारे में बताते हैं। इन नृत्य रूपों और लोक गीतों का कारण है कि हिमाचल अपने इतिहास के बारे में इतनी खूबसूरत बातें नहीं भूल पाया है।

Related Posts