Menu Close

Kathi Dance – Beautiful Folk Dance of Madhya Pradesh

Kathi dance

Kathi dance is a traditional folk dance of Madhya Pradesh state. It is the festival of the Nimar region. This is the festival of worship of Parvati. This festival starts from Dev Prabodhini Ekadashi and ends on Mahashivratri. In this way, the festival of Kathi lasts for four months, in the dance goes on. It is an ethnic dance. From the day of Ekadashi, the flag (flag) of Kathi Mata goes up. The dancers wear veils. There are usually three to eight to ten dancers in a Kathi party, who are called Bhagat. Kathi Mata always accompanies the devotees on the journey(ferry).

There are two main dancers, who are called Bada and Chhota Bhagat. Rajulya, who does service keeping a Kathi Mata, is a Khordar who plays a plate. Khordar repeats stories with thali playing, performs meanings, dances in simple costumes, and adds new dialogues between songs in an instant. While dancing, the Bhagat always keeps the goddess on the throne of a wooden plate or pavdi. Kathi’s dance takes place in front of the goddess.

kathi dance of madhya pradesh state
                               Kathi dance is a traditional folk dance of Madhya Pradesh

Origin of Kathi Dance

There is a legend related to the origin of this ceremonial dance of worship of Mother Shakti – “Kutch Kathiawar, Gujarat had a caste called Kathi, who danced only on the occasion of marriage. Kathi became popular in the name of a caste and it is famous at that time. It was found that the king there named his kingdom Kathiawad in memory of Kathi. Kathi’s residence where there is a Kathi. got full respect and patronage.

In Gujarat, there is an artist caste called Kathi even today. Who is skilled in making mythological images in beautiful embroidery with colorful threads on clothes. Kathi in Nimar is being performed by people of Balai Harijan caste for generations. This caste has an important contribution to keeping the Kathi dance tradition alive and alive till date. These castes like Teli, Sahu, Dashora, Mahajan, etc. also had a tradition of Kathi dance, but this tradition is not seen anywhere now. Hosts of Kathi Puja Brahmins, Vaishyas, and Kshatriyas are people of all castes.

Kathi dance performance

only the men are eligible for the Kathi dance. Women do not lift the Kathi of the Kathi dance, the initial prestige of the Kathi is worshiped by the married women of the village. The two dancers of the Kathi are important characters. The main character is Bada (Elder) Bhagat. The Bada Bhagat Katha begins with dance and drumming. The Chhota (younger) Bhagat follows the elder Bhagat. Khordar repeats the story songs, and gives meaning. Dances with meaning. The costume of Khordar is simple. Wearing Rajulya Devi helps in reciting songs. After taking the makeup, all the characters of the Kathi get ready to dance.

Dance postures in the Kathi accompany the story song. The main dancers dance in different postures by singing the lines of the song. Khordar dances while playing the plate. The Kathi dance postures are traditional. The coordination of pace and rhythm of dance is the specialty of Kathi dance. Both the dancers wear semi-circles. Leaning down and flying. Turns around with a jerk. Leaning down, holding the end of the ghagra in one hand, take the hand up to the head. Lifting the cover-up to the chest, they make a special contract with an egg. Dancing back to back, and dancing backward and backward are dance postures of the Kathi dance. According to the information received from Kathi dancers, there are twelve major postures of Kathi. They may have similar or different currencies in different regions.

Interesting fact

The biggest feature of Kathi is that in favorable weather from the point of view of folk entertainment, Kathi’s stories go on throughout the night. The tradition of singing by adding small characters of humorous satire in between is very ancient. Khordar initiates such episodes and immediately stuns the audience by crafting something. Nowadays dancers have started singing bhajans to film tunes, but this happens only after the songs of the main stories.

Kathi’s dance dress and makeup

The makeup of Kathi dancers is traditional and imaginative. The dancers wear a robe that extends from the neck to the feet. The Vaga red Chola has a ghagra-like girdle below the waist and the entire arm above. The costumes of the Kathi are similar to that of the dancers of the Mahakali dance of Nepal. The Kathakali dance of the South has also a similar costume. The figures of the moon and the sun rest on the back of the wage and the white cloth. The Yaksha and the Ghera in front have stars called “Kavadis”.

The Vaga covers the entire body of the dancer. A red turban, a white dupatta over the turban, is tied through the underside of the beard, which is called a kachha. In the turban, a peacock feather or chaiga is worn, the turban is tied with a white sandalwood tika, glow on the cheeks, a turban of zari or net is tied around the waist, the armband on the arm, on the top of the wag Seli is worn like a thread. Singi is tied to the seili. The makeup of the dancers takes at least an hour. Others are bhagat, dhoti, kurta, and turban, and thongs are tied around the waist. Kajal in the eyes, powder on the face Bhodal, Ghungroo in the feet, and Churidar pajamas are essential parts of Kathi makeup.

Instruments used in Kathi dance

Dhak is the basic instrument of the Kathi dance. The dancers hang the Dhaka from the neck to the waist in such a way that it can be easily moved up and down while playing. The Dhaka not only serves as an instrument but also helps in the performance of the parts sung. Dhak Mering is played with a slender stick inclined to one side of the tree. The dancer holds the ropes tightly to the shield with one hand, pressing the ropes The resonance of the shield can be increased or decreased according to the need, the gamut can be increased and decreased rapidly. The sound of “Dhundhuk” starts coming out as soon as the stick of the mercing is placed on the dhak. The dank itself is made by the dancers in their village.

The shape of the dhaak is resembling a damaru. The skin of a goat, gaurphad, or bull is mounted on the dhak. For this, colored handkerchiefs are tied to it. The rattling, shrill sound of the thali with the dhaank makes the Kathi dance so impressive that the combined tone of the dhaank and the thali appeals to a distant audience. The plate is of bronze. With the balanced hitting of a wooden round stick, the plate produces such a sound that that’s it? In the silence of the night, the melodious and serious sound of the plate fills the mind with so much curiosity that in the middle of the night people get up and run to see the thought of the Kathi dance. Singadiya has almost stopped in the Kathi.

Famous Groups and Dancers of Kathi Dance

Many traditional groups of Kathi dance drama reside in some villages of East Nimar, West Nimar, and Hoshangabad, Maharashtra. Kathi dancers from Nimar have come and settled in Malwa. Among the famous dancers of Kathi, Lukka Bhagat, Shankar-Jivraj, Bhagya, Thakaria, Mukunda Dharamya, Udaria, and Sitaram Giridhar Ganpat have been authentic artists of their time. Presently Sakharam Girdhar-Rangaon (Late) Padmashankar Bhadli, Chhajju Bankat Biroti, Poonamchand-Borwar, Gabru Dashya-Balkwada, Bhilya-Chitu- Saikhedi, Bhagwandas- Nagchun, Umrao- Phoolchand Bhandari, Tejya Babu-Bilkhedi, (Khandwa) Mangilal Mohanlal, Radheshyam, Ramswaroop Godagaon Gangeshri (Hoshangabad) are keeping the Kathi tradition alive. Punya Hema, Khushyal, and Gharmiya of Balkwara had made a public demonstration of Kathi in the open theater at Malvi-Nimari Lokotsav 73 Indore. Padmashankar of Khargone has received the summit honor. Ramswaroop Malaviya’s Kathi dance team has done cultural tours of England and Germany.

Kathi Dance – Beautiful Folk Dance of Madhya Pradesh in Hindi/काठी नृत्य – मध्य प्रदेश का सुंदर लोक नृत्य

काठी नृत्य

काठी नृत्य निमाड़ का पर्व है। यह पार्वती की उपासना का पर्व है। यह पर्व देव प्रबोधिनी एकादशी से प्रारंभ होता है और महाशिवरात्रि पर इसका समापन होता है। इस तरह काठी का पर्व पूर चार महीने चलता है, जिसमें नृत्य चलता है। यह एक जातीय नृत्य है। एकादशी के दिन से काठी माता की धजा (ध्वज) चढ़ जाती है। नर्तक बाना पहन लेते हैं। एक काठी दल में प्राय: तीन से आठ-दस तक नर्तक होते हैं, जिन्हें भगत कहते हैं। यात्रा यानी फेरी में भगतों के साथ काठी माता हमेशा होती है।

दो नर्तक प्रमुख होते हैं, जो बड़ा और छोटा भगत कहलाते है। एक काठी माता को रखने सेवा करने वाला रजूल्या, एक थाली बजाने वाला खोरदार होता है। खोरदार थाली बजाने के साथ कथाओं को दोहराता है, अर्थ करता है, सादी वेशभूषा में नृत्य में करता है और गीतों के बीच नये संवादों को तत्काल गति से जोड़ता है। भगत नाचते समय देवी को काष्ठ पाट या पावडी के सिंहासन पर सदैव रखते हैं। काठी नृत्य देवी के सम्मुख ही होता है।

काठी नृत्य की उत्पत्ति

मातृशक्ति की पूजा पर्व के इस आनुष्ठानिक नृत्य की उत्पत्ति संबंधी एक किंवदती कही जाती है- “कच्छ काठियावाड़ गुजरात में काठी नामक जाति थी, जो केवल विवाह के अवसर पर नृत्य करती थी. एक जाति के नाम पर लोकप्रिय हुआ काठी नृत्य उस समय इतना प्रसिद्धि पा गया कि वहां के राजा ने अपने राज्य का नाम काठी की स्मृति में काठियावाड़ रख दिया। काठी आवास जहां काठी का आवास हो। काठी आवास अपभ्रंश होकर काठिया अवाड़ हो गया। वही काठी जाति अपना नृत्य लेकर निमाड़ में आई, निमाड़ में काठी नृत्य को पूरा सम्मान और प्रश्रय मिला।

गुजरात में काठी नामक कलाकार जाति आज भी अस्तित्व में है। जो कपड़ों पर रंगीन धागों से सुंदर कसीदाकारी में मिथकथा चित्र बनाने में दक्ष है। निमाड़ में काठी नृत्य बलाई हरिजन जाति के लोग पीढ़ियों से कर रहे हैं। काठी नृत्य परम्परा को आज तक जीवित और जीवन्त रखने में इस जाति का महत्वपूर्ण योगदान है। तेली, साहू, दशोरा, महाजन आदि जातियों में भी कभी काठी नृत्य की परम्परा थी, लेकिन यह परम्परा अब कहीं देखने को नहीं मिलती। काठी पूजा के यजमान ब्राह्मण, वैश्य, क्षत्रिय सभी जातियों के लोग होते हैं।

काठी नृत्य का प्रदर्शन

काठी में सभी पुरुष पात्र होते हैं। स्त्रियां काठी का बाना नहीं उठाती काठी की प्रारंभिक प्रतिष्ठा पूजा गांव की सुहागन स्त्रियों द्वारा की जाती है। काठी के दो नर्तक महत्वपूर्ण पात्र होते हैं। मुख्य पात्र बड़ा भगत होता है। बड़ा भगत कथा नृत्य और ढांक बजाने की शुरुआत करता है। छोटा भगत बड़े भगत का अनुसरण करता है। खोरदार कथा गीतों को दुहराता है, अर्थ करता है। अर्थ के साथ नृत्याभिनय करता है। खोरदार की वेशभूषा सादी होती है। रजूल्या देवी धारण करने के साथ गीतों को दोहराने में सहायक होता है। श्रृंगार लेने के बाद काठी के सभी पात्र नृत्य करने के लिये तैयार हो जाते हैं।

इसमें नृत्य-मुद्राएं कथा गीत के साथ चलती हैं। मुख्य नर्तक गीत की पंक्तियां गाकर विभिन्न मुद्राओं में नृत्य करते हैं। खोरदार थाली बजाते हुए नृत्य करता है। काठी की मुद्राएं परम्परागत होती हैं। नृत्य की गति और लय का समन्वय काठी नृत्य की खासियत है। दोनों नर्तक अर्द्ध चक्री लगाते हैं। झुककर उड़ान भरते हैं। एक झटके के साथ घूमकर बैठते हैं। झुककर एक हाथ में घाघरे का छोर पकड़कर हाथ को सिर तक ले जाते हैं। ढांक छाती तक उठाकर उंडे से विशेष प्रकार का ठेका लगाते हैं। पीठ से पीठ लगाकर नाचना, आगे-पीछे वक्री होकर नाचना आदि काठी की नृत्य मुद्राएं हैं। काठी नर्तकों से मिली जानकारी के अनुसार काठी की प्रमुख बारह मुद्राएं हैं। अलग-अलग अंचलों में इनसे मिलती-जुलती या भिन्न मुद्राएं हो सकती हैं।

रोचक तथ्य

काठी की सबसे बड़ी विशेषता तो यह है कि लोकरंजन की दृष्टि से अनुकूल मौसम में काठी कथाएँ रात-रात भर चलती है। बीच-बीच में हास्य व्यंग्य के छोटे-छोटे चरित जोड़कर गाने की परम्परा बहुत प्राचीन है। ऐसे प्रसंगों की शुरुआत खोरदार करता है और तत्काल कुछ गढ़कर दर्शकों को चमत्कृत कर देता है। आजकल नर्तक फिल्मी धुनों पर भजन गाने लगे हैं, परंतु प्रमुख कथाओं के गाने के बाद ही ऐसा होता है।

पोशाक एवं श्रृंगार

काठी नर्तकों का श्रृंगार पारम्परिक और कल्पनाशील होता है। नर्तक गले से लगाकर पैरो तक घेरदार बागा पहनते हैं। वागा लाल चोल का कमर से नीचे घाघरे जैसा घेरदार और ऊपर पूरी बाँह का होता है। इसकी वेशभूषा नेपाल के महाकाली नृत्य के नर्तकों से मिलती जुलती होती है। दक्षिण के कथकलि नृत्य की वेशभूषा भी इसी तरह की होती है। वागे की पीठ की और सफेद कपड़े के चांद-सूरज की आकृतियां टकी रहती हैं। सामने यक्ष एवं घेर में सितारे टके रहते हैं, जिन्हें कवडियाँ” कहते हैं।

वागा नर्तक के पूरे तन को बैंक लेता है। सिर पर लाल पगड़ी पगड़ी पर सफेद दुपट्टा, दाढ़ी के नीचे से होता हुआ बांधा जाता है, जिसे काछा कहते हैं। पगड़ी में मोरपंख की कलगी या छैगा लगाया जाता है, पगड़ी में गोटा-किनारी टाक दी जाती है। मस्तक पर श्वेत चंदन टीका, गालों पर चमक, कमर में कमर पेटी जरी की या जालीदार बांधी जाती है, बांह पर बाजूबंद, वागे के ऊपर जनेऊ के समान सेली पहनी जाती है। सेली में सिंगी बांधी जाती हैं। नर्तकों के श्रृंगार में कम से कम एक घंटा लगता है। अन्य भगत, धोती, कुर्ता, पगड़ी और कमर में अंगोछा बांधे रहते हैं। आंखों में काजल, चेहरे पर पावडर- भोडल, पैरों में घुंघरू, चूड़ीदार पजामा काठी श्रृंगार का अनिवार्य अंग होता है।

काठी के वाद्य

ढांक काठी का मूल वाद्य है। नर्तक ढांक को गले से कमर तक इस तरह लटकाते हैं, जिसे बजाते समय आसानी से ऊपर-नीचे आगे-पीछे किया जा सके। ढांक केवल वाद्य का ही काम नहीं करती बल्कि गाये गये अंशों के अभिनय में भी सहायक होती है। ढांक मर्सिंग वृक्ष के एक ओर झुके हुए पतले डंडे से बजायी जाती है। नर्तक एक हाथ से ढांक में कसी रस्सियों को पकड़ता है, रस्सियों को दबाने से ढांक की अनुगूंज आवश्यकतानुसार कम-ज्यादा, गमक तेज ऊँची-नीची की जा सकती है। ढांक पर मर्सिंग का डंडा पडते ही ढुंढुक” का स्वर निकलने लगता है। ढांक स्वयं नर्तक अपने गांव में बनाते हैं।

ढाँक की आकृति डमरू से मिलती जुलती होती है। ढांक पर बकरे, गौरफड़ या बैल की खाल चढ़ी होती है। ढांक को सजाने के लिए उस पर रंगीन रूमाल बांध दिये जाते हैं। ढांक के साथ थाली की झनझनाती तेज-तीखी आवाज काठी नृत्य को इतना प्रभावशाली बना देती है कि ढांक और थाली का संयुक्त स्वर दूरस्थ दर्शकों का आव्हान कर लेता है। थाली कांसे की होती है। लकड़ी के गोल डंडे की संतुलित मार से थाली ऐसी ध्वनि उत्पन्न करती है कि बस? रात के सन्नाटे में थाली की मधुर और गंभीर ध्वनि मन में इतना कुतूहल भर देती है कि काठी का ख्याल” (तमाशा) आधी रात में लोग उठ-उठकर देखने दौड़ पड़ते हैं। काठी में सिंगाडिया का प्रचलन लगभग बंद हो गया है।

काठी नृत्य के प्रसिद्ध समूह और नर्तक

काठी नृत्य नाट्य के अनेक परम्परागत दल पूर्व निमाड़, पश्चिम निमाड़, होशंगाबाद, महाराष्ट्र के कुछ गांवों में निवास करते हैं। मालवा में निमाड़ के काठी नर्तक आकर बस गये हैं। काठी के प्रसिद्ध नर्तकों में लुक्का भगत, शंकर-जिवराज, भग्या, ठाकरिया, मुकुंद धरम्या, उदरिया, सीताराम गिरिधर गणपत अपने समय के प्रामाणिक कलाकार रहे हैं। वर्तमान में सखाराम गिरधर- रणगांव (स्व.) पदमशंकर भाडली, छज्जू बंकट बिरोटी, पूनमचंद-बोरवार, गबरू दशऱ्या-बलकवाडा, भील्या-छीतू- साईखेड़ी, भगवानदास – नागचून, उमराव – फूलचंद भंडारिया, तेज्या बाबू-बिलखेड़ी (खंडवा) मांगीलाल, मोहनलाल, राधेश्याम, रामस्वरूप गोदागांव गंगेश्री (होशंगाबाद) काठी परंपरा को जीवित रखे हुये हैं। बलकवाड़ा के पुन्या हेमा, खुश्याल, घरमिया ने मालवी- निमाड़ी लोकोत्सव 73 इंदौर में खुले रंगमंच पर काठी का सार्वजनिक प्रदर्शन किया था। खरगोन के पदमशंकर को शिखर सम्मान प्राप्त हुआ है। रामस्वरूप मालवीय का काठी नृत्य दल इंग्लैण्ड और जर्मनी की सांस्कृतिक यात्रा कर चुका है।

Related Posts