Menu Close

Uday Shankar Ji Biography in Hindi

Uday Shankar Ji Biography – Father of modern Indian dance

The life-journey of Uday Shankar, is the father of modern Indian dance. He made a huge contribution to the history of Indian classical dance kathak. Today we will know about his biography.

He was born on 8 December 1900 in Udaipur. His father’s name was Dr. Shyama Shankar Chaudhary, who was an advisor to the government in the education department of Jhalawad (Rajasthan) and later became the Diwan of the state. Uday shankar was named after the city of his birth i.e. Udaipur. Uday shankar Ji is a leading dancer and choreographer from India, whose traditional Hindu dance adaptation of Western theatrical techniques popularized the ancient art form in India, Europe, and the United States. Uday Shankar Ji gained worldwide fame and is credited with familiarizing Indian dance styles with the world.

Uday shankar ji

 

Education and performance

Uday Shankar was very interested in music and painting since childhood. In 1917, he joined Bombay (Sir JJ School of Arts) and two years later in 1920 (Royal. College of Arts London) to pursue higher education in painting. It was a coincidence that he came in contact with the famous Russian Bailey artist, Anna Pavlova. He remained with Anna’s troupe for nearly two years. Subsequently, he formed his troupe and performed Indian dances in Europe and America and produced two dances, the Hindu Wedding and the couple Radha and Krishna, for inclusion in his program Oriental Impressions.

In 1929, Uday Shankar returned to India and trained with Sankaranambudi in Kathakali and Khandapapilli in Bharatanatyam. He also studied Manipuri dance and other folk dances and invented a new style of his own, combining the specialties of various dance forms. He set up an art center near Almora to impart training, but it could not be seen for a long time. Udayashankar used shadow dance by throwing light from behind the screen and produced a feature film ‘Kalpana’. , But he incurred heavy losses in this venture. However, he gained much fame internationally.

Uday Shankar was awarded the Fellowship of Vishwa Bharati University, National Music Academy, Deshkottam, and Padma Vibhushan by the Government of India. Uday Shankar will always be remembered for giving a new direction to the Indian tradition. Their dance style is also known as Oriental style. Udayashankar, a master of Indian dances, died in Calcutta on 6 September 1977.

Today, in this blog, we have briefly understood the journey of Uday Shankar Ji, hope that you have got the answer to your every question and have learned something new, and thank you for being more involved with Nrityashiksha for more information.

Uday Shankar Ji Biography in hindi / भारतीय नृत्य के जनक (जीवनियाँ)

भारतीय नृत्य के जनक उदयशंकर जी की जीवन-यात्रा जो की आधुनिक भारतीय नृत्य के पिता है। जिनहोने कथक नृत्य के इतिहास में अपना बहुत बड़ा  योगदान दिय। आज हम उन्ही की जीवनी के बारे में जानेगे।

उदयशंकर जी का जन्म 8 दिसंबर 1900 को उदयपुर में हुआ था। उनके पिता का नाम डॉ श्यामा शंकर चौधरी था जो झालावाड (राजस्थान) के शिक्षा विभाग में सरकार के सलाहकार थे और बाद में राज्य के दीवान बने। उदयशंकर का नाम उनके जन्म के शहर यानी उदयपुर के नाम पर रखा गया था।  उदयशंकर जी भारत के प्रमुख नर्तक और कोरियोग्राफर, जिनकी पश्चिमी नाट्य तकनीकों के पारंपरिक हिंदू नृत्य के अनुकूलन ने भारत, यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में प्राचीन कला रूप को लोकप्रिय बनाया। उदयशंकर जी ने विश्वव्यापी ख्याति प्राप्त की और उन्हें भारतीय नृत्य शैलियों को दुनिया से परिचित कराने का श्रेय दिया जाता है।

शिक्षा और प्रदर्शन

बचपन से ही उदयशंकर जी को संगीत और चित्रकला में बड़ी रुचि थी। वर्ष 1917 में उन्होंने बॉम्बे के (सर जे.जे.स्कूल ऑफ आर्ट्स) में प्रवेश लिया और दो साल बाद चित्रकला में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए 1920 में (रॉयल.कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स लंदन) में दाखिला लिया। यह एक संयोग था कि वह प्रसिद्ध रूसी बैली कलाकार, अन्ना पावलोवा के संपर्क में आया। लगभग दो साल तक वह अन्ना की मंडली के साथ रहे। इसके बाद, उन्होंने अपनी मंडली बनाई और यूरोप व् अमेरिका  में भारतीय नृत्य किए  और अपने कार्यक्रम ओरिएंटल इम्प्रेसेंस  में शामिल करने के लिए दो नृत्य, हिंदू वेडिंग और युगल राधा और कृष्ण का निर्माण किया।।

1929 में उदयशंकर जी  भारत लौट आए और कथकली में शंकरननंबूदरी के साथ और भरतनाट्यम में खांडपापिल्ली से प्रशिक्षण लिया। उन्होंने मणिपुरी नृत्य और अन्य लोक नृत्यों का भी अध्ययन किया और विभिन्न नृत्य रूपों की विशिष्टताओं को मिलाकर, अपनी खुद की एक नई शैली का आविष्कार किया। उन्होंने प्रशिक्षण देने के लिए अल्मोड़ा के पास एक कला केंद्र की स्थापना की, लेकिन इसे लंबे समय तक नहीं देखा जा सका।

उदयशंकर जी ने स्क्रीन के पीछे से प्रकाश फेंककर छाया नृत्य का प्रयोग किया और एक फीचर फिल्म ‘ कल्पना ‘ ’का निर्माण किया, लेकिन उन्होंने इस उद्यम में भारी नुकसान उठाया। हालाँकि, उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत प्रसिद्धि प्राप्त की।

उदयशंकर जी को भारत सरकार द्वारा विश्वभारती विश्वविद्यालय , राष्ट्रीय संगीत अकादमी ,देशकोट्टम की फैलोशिप और पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। भारतीय परम्परा को एक नई दिशा प्रदान करने के लिए उदयशंकर जी को हमेशा याद किया जाएगा। उनकी नृत्य शैली को ओरिएंटल शैली के रूप में भी जाना जाता है। भारतीय नृत्यों के ज्ञाता उदयशंकर जी  निधन  6 सितंबर 1977 में कलकत्ता मेंहो गया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.